मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

Wednesday, 19 November 2008

कंगारू और हम

एक नई जानकारी वैज्ञानिकों द्वारा दी गई है कि कंगारू भी मनुष्य के पूर्वज हो सकते हैं क्योंकि उनके जीनोम से हमारे जीनोम काफी मिलते हैं. अभी तक तो हम बंदरों को देख कर ही खुश हो लेते थे कि ये ही हमारे पूर्वज हैं. अब मेरे मन में एक बात और आई कि आज के मनुष्य में कंगारुओं की कितनी बातें पाई जाती हैं ? कंगारुओं के पेट में एक थैली होती है जो उनके बच्चे को सुरक्षा देती है मैंने भी बहुत प्रयास किया कि मनुष्य में वो थैली कहाँ है तो मेरी जानकारी में आया कि समय के साथ वो थैली गायब हो गई है आज के युग में वो दिखाई नहीं देती है. यह तो वैज्ञानिक भी कहते हैं कि जिस चीज़ का इस्तेमाल कम हो जाता है वो हजारों सालों में धीरे धीरे गायब होने लगती है. पर ये थैली आज दिखाई तो नहीं देती पर नेताओं के पेट में ये आज भी मौजूद है. उनकी पैसे बटोरने की इच्छा कभी भी समाप्त ही नहीं होती है, उस थैली में वो अपना काला धन जमा करते रहते हैं. चलो मेरी खोज से भी लोगों का भला ही होने वाला है क्योंकि अब शायद वे यह आसानी से समझ सकें कि आख़िर कंगारुओं और मनुष्यों में समानता किस तरह से है ? अब कोई कहीं कंगारुओं को न बता दे और वे बिदक जायें कि हमारी तुलना नेताओं से कर के हमारी तौहीन क्यों की जा रही है ?

No comments:

Post a Comment