मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

Wednesday, 5 August 2009

मजबूरी

फिर से आता
राखी का त्यौहार
उसकी तो सोच ही
बदल जाती ।
कुछ समझ नहीं पाता
कि कैसे समझाए
अपनी बहन को जो
फिर से करेगी इंतज़ार
उसकी कलाई का
बुनेगी सपने अरसे बाद राखी बाँधने के॥
जब भी देखता है वह अपनी
बचत को जो बहुत कम है
सोच लेता है कि कह दूँगा
मिल पा रही है अभी छुट्टी नहीं
फिर कोशिश करूंगा.......
आख़िर पिछले कई सालों से
यही झूठ बोलकर ही तो
समझाता रहा हूँ उसे
और रोता रहा हूँ
बहुत देर तक उससे बात करने के बाद....
क्या इसी को कहते हैं
मजबूरी ?
मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

4 comments:

  1. अति भावपूर्ण!!

    रक्षा बंधन के पावन पर्व की शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  2. बहुत भावपूर्ण रचना।
    रक्षा बंधन के पावन पर्व की शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  3. राखी बाँधने पर पैसा देना कुछ अधिक गले नहीं उतरता।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  4. भावुक कर दिया ...!!
    आपको रोने और कुछ कहने की जरुरत नहीं है ...बहने सब बिना बोले समझती हैं ..!!

    ReplyDelete