मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

Monday, 12 October 2009

टुकड़े टुकड़े

टकराकर वापस आती
प्रेम की सुखद अनुभूति
जो हो जाती है कभी
टुकड़े टुकड़े.....
कर जाती है मन को
अतृप्त गहरे तक व्यथित
जैसे हो चमन
उजड़े उजड़े......
बुन जाती है जीवन में
एक नया ताना बाना
पर ज़िन्दगी कटती है
सिकुड़े सिकुड़े.....
सुख की एक नई चाह में
अनचाहे में ही वह
बो जाती है रोज़ नए
झगड़े झगड़े......
बेचैन कर जो कुछ भी
कर नहीं सकती
सुना जाती है नए
दुखड़े दुखड़े...
दिल डूब रहा हो जब
यादों के अनंत भंवर में
दिखा जाती है वह प्यारे
मुखड़े मुखड़े....

मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

4 comments:

  1. bahut sundar. aur fir ant me :
    मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

    ReplyDelete
  2. सुन्दर लगा आपका ये लेख , खाशकर कविता के बाद देश प्रेम

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  4. दिल को छू रही है यह कविता .......... सत्य की बेहद करीब है ..........

    ReplyDelete