मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

Monday, 19 April 2010

थरूर का इस्तीफ़ा

अच्छा ही हुआ की विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर ने अपना त्यागपत्र दे दिया क्योंकि जिस तरह से विपक्ष उनके इस्तीफे की मांग पर अड़ कर संसद को नहीं चलने दे रहा था उससे यह बहुत आवश्यक हो गया था कि संसद में गतिरोध को तोड़ा जाये. शशि विदेशों में पले बढ़े हैं उनको इस तरह के माहौल की आदत नहीं रही है जैसे कि विदेशों में होता रहता है ? इससे पहले भी वे कई बार नीतिगत मुद्दों पर सरकार से अपनी मत भिन्नता को सार्वजनिक रूप से इंटरनेट पर कह चुके हैं. आई पी एल में वास्तव में पैसे का बहुत बड़ा खेल हो रहा है  इसकी पूरी तरह से निष्पक्ष जांच होनी ही चाहिए फिलहाल पहले शिकार के तौर पर शशि सामने आ चुके हैं. आज के समय में किसी पर भी कीचड़ उछालने से अच्छा है कि इस पूरे मामले की एक विशेष जांच करायी जाये. देश में इतने बड़े आयोजन का होना अच्छा है पर सरकार को बिना पूरा टैक्स दिए कोई किस तरह से अपनी झोली भर सकता है जबकि सरकार से जुड़े कई मंत्री क्रिकेट में पूरी तरह से घुसे हुए हैं ?
  सरकार को बी सी सी आई से पूरी तरह से टैक्स लेना चाहिए क्योंकि यह दुनिया के सबसे धनी बोर्ड में से है और जब वह अपनी हर चीज़ को बेच कर पूरी तरह से लाभ कमा रहा है तो उससे किस तरह से रियायत की जा सकती है ? खेल के पीछे केवल खेल ही हो तो समझ में आता है पर खेल के पीछे और भी खेल चलने लगें तो देश का नुकसान ही होने वाला है ? यह सच है कि क्रिकेट बोर्ड ने बहुत अच्छा काम किया है पर केवल कुछ अच्छा किया है  इसलिए वे क्या कुछ भी करने के लिए स्वतंत्र हैं ? बिलकुल नहीं वहां पर केवल पैसा बोल रहा है. देश की टीम को ४०० करोड़ रुपयों में खरीदा जाता है तो आई पी एल की एक टीम १७०० करोड़ में बिकती है ? क्या आई पी एल की टीम देश की टीम से ऊपर हो सकती है ? क्या इस तरह के किसी भी आयोजन के लिए किसी को इतनी स्वतंत्रता दी जानी चाहिए ? अब समय है कि इस खेल के पीछे के पूरे खेल को सामने लाया जाया.      

मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

4 comments:

  1. हर खेल के पीछे के खेल देखे तो कितने घोटाले निकलेंगे ...
    किस-किस से इस्तीफा मांगेंगे ...
    मगर फिर भी शुरुआत तो हुई ...!!

    ReplyDelete
  2. THROOR KE ISTIFE KE NATAK KA ANT JIS TARAH SE HUA YAH LOKTNTR KE LIYE SARMNAK HAI.CNGRESS AGAR THROOR SE ISTIFE KI JAGAH USE PAD SE HATATI TO ACHCHA HOTA.KYOKI KISI BHI CHRITRHIN WYAKTI KO SAMWAIDHANIK UCHCH PADON PAR EK DIN BHI NAHI RAHNE DENA CHAHIYE AGAR AISA HOTA HAI YA HO RAHA HAI TO YAH SAMWIDHAN KI MARYADA AUR JANTA MAIN USKI AASTHA KO GIRANE KA KAM KAREGA .

    ReplyDelete
  3. चलिये अच्छा ही हुआ!!

    ReplyDelete
  4. सरकार को बी सी सी आई से पूरी तरह से टैक्स लेना चाहिए क्योंकि यह दुनिया के सबसे धनी बोर्ड में से है और जब वह अपनी हर चीज़ को बेच कर पूरी तरह से लाभ कमा रहा है

    ReplyDelete