मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

Wednesday, 28 April 2010

और कितनी माधुरी हैं ?

पाक में तैनात भारतीय राजनयिक माधुरी गुप्ता को जिस तरह से पाक के लिए जासूसी करते हुए पकड़ा गया है वह निश्चित तौर पर बहुत सोचने का विषय है. इस तरह के उच्च पदों पर बैठे लोग ही जब देश की जनता के पैसों से अपना वेतन लेकर भी इस तरह की हरकतें करते हैं तो हर किसी पर शक़ होने लगता है. आख़िर किस तरह के मान दंडों को अपनाकर इन राजनयिकों को पोस्टिंग दी जाये अब हर सरकार के लिए यह बहुत बड़ी चुनौती बनने वाली है क्योंकि पैसे के लालच में कोई कितना गिर सकता है माधुरी इसका ताज़ा उदाहरण हैं. ऐसा नहीं है कि इस सेवा में सभी भ्रष्ट अधिकारी हैं या कोई विशेष सेवा भ्रष्टाचार से बची हुई है पर जब बाड़ ही खेत को खाने लगे तो किस तरह से रखवाली की जाए ? इस तरह की कोई भी घटना देश की छवि को बट्टा लगाने के साथ ही इन प्रतिष्ठित सेवाओं की भी बदनामी कराती है क्योंकि लोग आसानी से कह देते हैं कि सभी लोग ऐसे हैं बस माधुरी तो पकड़ में आ गयी हैं. किसी देश के विदेश विभाग से जुड़े किसी भी अधिकारी का किसी भी देश को कोई सूचना गुप्त रूप से देना बहुत ग़लत है पर जब बात भारत और पाक के बीच की हो तो यह सब और बिगड़ जाता है.
देश में पाक की क्या छवि है सभी जानते हैं क्योंकि केवल देश की जनता के दबाव के कारण ही इस बार आई पी एल में पाक के खिलाडी नहीं खेल सके. शादी किसी का भी व्यक्तिगत मामला है पर जब सानिया मिर्ज़ा अपने पैसो का हिसाब किताब देखेंगीं तो उन्हें पता चलेगा कि देश के लोग उनके खेल की तारीफें तो करते हैं पर जो पैसा उन्हें विज्ञापनों से मिलता था अब वह नहीं दिखाई दे रहा होगा ? क्यों ? क्योंकि पाक का हर व्यक्ति भारत में संदिग्ध नज़रों से देखा जाता है और इसके लिए आम पाकिस्तानी नागरिक नहीं वरन वहां के नेताओं द्वारा अपनाई जाने वाली भारत विरोधी नीतियां हैं. देश की किसी भी सूचना का किसी भी स्तर पर दुरूपयोग क्षमा योग्य नहीं है फिर अपने दुश्मन देश के साथ ऐसी जानकारी बांटना तो और भी सजा योग्य है. फिलहाल तो ख़ुफ़िया तंत्र को यह ध्यान रखना होगा कि कोई भी अधिकारी चाहे किसी भी पद पर हो उसके रसूख के आगे उस पर शक करना बंद नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि ये ऐसा नहीं कर सकते ऐसी सोच ही देश के लिए घातक साबित हो सकती है.  


मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

6 comments:

  1. बहुत सही पोस्ट लिखी है आपने...
    इस तरह की हरकत करना बहुत ही शर्मनाक है और यह क्षमा के योग्य नहीं है ....

    ReplyDelete
  2. पता लगा है कि वो तो अविवाहित भी है!कोई परिवार नहीं आगे,फिर किसके लिए ये पैसो का लालच!इस राष्ट्र द्रोह के लिए जो अधिकतम सजा हो सकती है वो मिल जानी चाहिए!

    आपका प्रशन वाजिब है!ये अकेली नहीं हो सकती!सभी का पता लगाना भी एक महत्वपूर्ण कार्य है!



    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  3. इस देश के लोकतंत्र का यही मतलब है /सरकारी गोपनीयता के नाम पर जनता को कुछ न बताओ लेकिन सरकार में बैठे ज्यादातर भ्रष्ट और गद्दार हर सूचना का सौदा करते हैं -उन लोगों के साथ जिनका सिर्फ और सिर्फ मकसद इस देश और इस देश के समाज को बर्बाद करना है / ऐसे लोग जो कोई भी हो उनकी त्वरित सुनवाई कर सरे आम फांसी पर लटकाया जाय / जिससे देश में गद्दारों की संख्या जो दिन दूनी रात चोगुनी बढ़ रही है को रोका जा सके / जनता का पैसा जनता को भूखे मारने और उसका कल्याण करने के बजाय भ्रष्ट और गद्दार मंत्रियों के कल्याण में लगाया जा रहा है / लोकतंत्र इसी वजह से मर रहा है /आपके इस बिचारोत्तेजक रचना के लिए आपका धन्यवाद / आशा है आप इसी तरह ब्लॉग की सार्थकता को बढ़ाने का काम आगे भी ,अपनी अच्छी सोच के साथ करते रहेंगे /ब्लॉग हम सब के सार्थक सोच और ईमानदारी भरे प्रयास से ही एक सशक्त सामानांतर मिडिया के रूप में स्थापित हो सकता है और इस देश को भ्रष्ट और लूटेरों से बचा सकता है /आशा है आप अपनी ओर से इसके लिए हर संभव प्रयास जरूर करेंगे /हम आपको अपने इस पोस्ट http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/04/blog-post_16.html पर देश हित में १०० शब्दों में अपने बहुमूल्य विचार और सुझाव रखने के लिए आमंत्रित करते हैं / उम्दा विचारों को हमने सम्मानित करने की व्यवस्था भी कर रखा है / पिछले हफ्ते अजित गुप्ता जी उम्दा विचारों के लिए सम्मानित की गयी

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  5. आख़िर किस तरह के मान दंडों को अपनाकर इन राजनयिकों को पोस्टिंग दी जाये अब हर सरकार के लिए यह बहुत बड़ी चुनौती बनने वाली है क्योंकि पैसे के लालच में कोई कितना गिर सकता है

    ReplyDelete
  6. गुप्ता ने भारत की नारियो को शर्मशार किया है

    ReplyDelete