मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

Wednesday, 3 August 2011

गंगा अब कूड़ेदान ?

आस्ट्रेलिया में एक रेडियो एंकर द्वारा गंगा को कूड़ेदान और भारत को बेकार जगह कहे जाने का विवाद बढ़ता ही जा रहा है. इस मामले पर वहां पर बसे भारतीयों ने अपना कड़ा विरोध जताया है और इस पूरे मसले पर सम्बंधित एंकर से माफ़ी मांगने को भी कहा है. ऐसा न करने पर यह मसला वहां की प्रसारण नियामक संस्था के समक्ष उठाये जाने की धमकी भी दी है. सवाल यह है की आज कर आस्ट्रेलिया में ऐसा क्या हो रहा है जिससे वहा के लोग इस तरह से भारतीयों और भारतीय सम्मान से जुडी बातों पर इस तरह से आक्रामक हुए जा रहे हैं. पूरी दुनिया में भारतीयों को शांतिप्रिय माना जाता है और कहीं पर भी किसी भी तरह की अराजक गतिविधि में लिप्त नहीं रहते हैं फिर ऐसा क्या है कि आस्ट्रेलिया के लोग हमें आसानी से पचा नहीं पा रहे हैं ? कहीं ऐसा तो नहीं कि भारतीयों की मेधा शक्ति के आगे आस्ट्रेलिया के लोग पिछड़ रहे हैं इसलिए ही वे हताशा में कुछ इस तरह से भारतीय सम्मान से जुड़ी बातों को लेकर अपमान करने से नहीं चूक रहे हैं.
    कहीं ऐसा तो नहीं कि भारतीय समुदाय के कुछ लोग ही वहां पर ऐसी हरकतें करके लोगों को भारत के ख़िलाफ़ भड़कने का अवसर दे रहे हैं ? कहीं न कहीं से वहां बसे भारतीय समुदाय के मंथन करने का समय है क्योंकि जब तक हम अपनी कमी को ढूँढने का प्रयास नहीं करेंगें तब तक यह निश्चित नहीं हो पायेगा कि आख़िर ग़लती कहाँ से हो रही है और बिना इसका सही कारण जाने हम इसको दूर कर पाने में भी सफल नहीं होने वाले हैं. भारत के लोगों को आम तौर पर पूरी दुनिया में पसंद किया जाता है फिर भी कहीं न कहीं से इस तरह की बातें उठाये जाने के पीछे कोई कारण तो अवश्य ही होगा. जहाँ तक गंगा को कूड़ेदान कहने का सवाल है उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है क्योंकि आज की तारीख़ में हम भारतीयों ने अपनी पुण्य सलिला, मोक्ष दायिनी और पवित्रतम नदी को गन्दा करने में कोई कसंर नहीं छोड़ी है और आज भी हम इसके प्रति जागरूक नहीं हो पाए हैं जिस कारण से ही कुछ लोग इस तरह से अपमानजनक बातें करने में सक्षम हो पा रहे हैं.
   क्या हुआ अगर किसी विदेशी ने हमें सच्चाई का आइना दिखा दिया तो इससे क्या भारत की प्रतिष्ठा घट गयी ? अभी तक जब हम स्वयं ही अपनी इस पुण्य नदी के बारे में कुछ सोच नहीं पाए हैं तो फिर आगे आने वाले समय में अगर दूसरे इस बात को हमसे बताते हैं तो हमें बुरा क्यों लगता है ? आज वास्तव में गंगा की जो हालत है वह किसी विदेशी ने नहीं की है वह सिर्फ और सिर्फ हमारी ही ग़लती है और अब जब सच्चाई से हमारा वास्ता पड़ रहा है तो हम दूसरों पर ऊँगली क्यों उठा रहे हैं ? दुनिया में हर तरह के लोग रहते हैं और इस तरह से किसी के भी बारे में कुछ भी कहने और करने वाले बहुत सारे लोग हैं जो किसी पूर्वाग्रह के चलते दूसरों को ठेस पहुँचाना चाहते हैं पर इससे उनकी सोच का ही पता चलता है. भारत के बारे में पूरी दुनिया में जो भी भ्रांतियां अगर हैं तो उन्हें दूर करने का उत्तरदायित्व भी हम भारतीयों का है और अपनी धरोहर गंगा को अगर हम साफ़ रख सकने में सफल हुए होते तो कोई इस नदी को कूड़ेदान कहने की हिम्मत भी नहीं जुटा पाता.      
मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

2 comments:

  1. गलती तो हमारी ही है जो गंगा माँ कही जाती है स्वच्छ नहीं रख पाए

    ReplyDelete
  2. आपने तो गंगा को मैली दिखाया है लेकिन अब तो स्लट वॉक निकालकर भारतीय नारी के चरित्र को भी मैला किया जा रहा है।

    आपने दिखाई है हादसों की तस्वीरें और हम आपको दिखाते हैं ख़ुशख़बरी और ब्लॉगजगत की ताज़ा ख़बरें
    देखिए ये लिंक्स

    1- अच्छी टिप्पणियाँ ही ला सकती हैं प्यार की बहार Hindi Blogging Guide (22)
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/hindi-blogging-guide-22.html

    2- औरत हया है और हया ही सिखाती है , ‘स्लट वॉक‘ के संदर्भ में
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_5673.html

    3- हाइकु गीत ----- दिलबाग विर्क
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_97.html


    4- मुस्कुरा दिया करना
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_1517.html

    5- ये हैं क्रिकेट के बद्तमीज़
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_1989.html

    6- राष्ट्र गान--किसकी जय गाथा
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_02.html

    7- ख़ुशख़बरी और मुबारकबाद Good news
    http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/08/good-news.html

    --
    *हिंदी ब्लॉगिंग http://hbfint.blogspot.com* को बढ़ावा देने के मक़सद से ही
    आपको यह लिंक प्रेषित किए जाते हैं जिन्हें आप अपने मित्रों को फ़ॉरवर्ड कर दिया
    करें ताकि नए लोग हिंदी ब्लॉगिंग से जु़ड़ें। अगर आपको इन लिंक्स के आने से
    परेशानी होती है तो कृप्या सूचित करें ताकि आपका नाम सूची से हटाया जा सके।
    हमारा मक़सद आपको परेशान करना नहीं है। अगर आप भी अपना ब्लॉग संचालित करते हैं
    या आप सामान्य नेट यूज़र हैं और हिंदी ब्लॉगर्स से कोई विचार साझा करना चाहते
    हैं तो आप भी अपनी पोस्ट का लिंक या कंटेंट भेज सकते हैं। उसे ज़्यादा से
    ज़्यादा हिंदी ब्लॉगर्स तक पहुंचा दिया जाएगा। शर्त यह है कि यह कंटेंट
    देशप्रेम की भावना को बढ़ाने वाला और समाज के व्यापक हित में होना चाहिए। हिंदी
    ब्लॉगिंग को सार्थक दिशा देना ही ‘ब्लॉग की ख़बरें‘ का मक़सद है।

    धन्यवाद !

    ReplyDelete