मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

Wednesday, 27 August 2014

भाजपा संसदीय बोर्ड का पुनर्गठन

                                                                                  चुनाव लड़ने और मंत्रिमंडल के गठन के समय भाजपा के वरिष्ठों को अति सक्रिय राजनीति से अलग रखने के निर्णय की चाहे जिस भी तरह से आलोचना की जाये पर भारर्तीय परिप्रेक्ष्य में बुजुर्गों द्वारा सत्ता चलाने की परंपरा देखते हुए लगातार युवा पीएम देखने के लिए देश को अभी कई दशकों का इंतज़ार करना पड़ सकता है. किसी भी पार्टी को उसके वर्तमान नेतृत्व द्वारा किस तरह से चलाया जाता है यह पूरी तरह से उस पार्टी विशेष का अंदरूनी मामला हुआ करता है पर भारतीय राजनीति में दूसरे दलों के परिवर्तनों पर टिप्पणी करने के अनावश्यक चलन के कारण इस पर भी बयानबाज़ी की जाती है. निश्चित तौर पर भारतीय लोकतंत्र अपने आप में जनता की सक्रियता के चलते बहुत ही अच्छी स्थिति में है पर नेताओं में आज भी उतने गुण नहीं आ पाये हैं जो एक परिपक्व लोकतंत्र में होने चाहिए. परिवर्तन के चलते ही देश, नेता और राजनीति अच्छे-बुरे दौर से गुज़रा करते हैं फिर भी इसका हर स्तर पर स्वागत ही किया जाना चाहिए.
                                                  भाजपा ने जिस तरह से अपने वरिष्ठों को पहले मंत्रिमंडल और फिर पार्टी के सबसे बड़े निर्णायक समूह से अलग किया है उसे किसी भी तरह से गलत नहीं ठहराया जा सकता है क्योंकि लोकतंत्र में पीढ़ियों में इसी तरह से सत्ता और पार्टी में शक्तियों का हस्तांतरण हुआ करता है. वर्तमान में जसी तरह से नरेंद्र मोदी भाजपा में सबसे प्रभावशाली और लोकप्रिय नेता के रूप में सबके सामने आये हैं तो उनकी किसी भी बात का विरोध कर पाना किसी भी भाजपा नेता के बस के बाहर ही है. अटल बिहारी तो अवस्था के चलते अब सक्रिय जीवन से ही कई वर्षों से दूर हैं पर पार्टी के अन्य वरिष्ठों अडवाणी और जोशी को अब यह समझना ही होगा कि उनका दौर समाप्त हो गया है जिससे उनके लिए इस नयी पीढ़ी की राजनीति को स्वीकार करने में और भी अधिक मदद मिलेगी. जिन लोगों ने अपने पूरे जीवन को इस तरह से एक दर्शन के रूप में पार्टी के लिए लगा दिया हो उनके लिए इस सच को स्वीकार कर लेना ही उचित है.
                                                    अभी तक देश में कुछ ऐसी परंपरा नहीं बन पायी है कि नेता लोग सार्वजनिक जीवन से खुद ही अलग होने के लिए कोई सीमा चुन लेते पर अब जब यह प्रारम्भ हो चुका है तो इसका स्वागत भी किया जाना चाहिए. सत्ता की राजनीति में वरिष्ठों के अनुभव की भी बहुत आवश्यकता होती है और जब उसकी आवश्यकता हो तब पार्टी को अपनी उस धरोहर की अनदेखी भी नहीं करनी चाहिए. भाजपा में जिस तरह से अडवाणी के खेमे को चुनाव प्रचार शुरू होने के पहले से ही किनारे किये जाने का क्रम शुरू किया गया था उससे उनका मन आहत हुआ क्योंकि नयी पीढ़ी ने उनकी वरिष्ठता की अनदेखी की वहीं स्वयं अडवाणी ने भी इस बात को समझने का कोई प्रयास नहीं किया कि अब अटल-अडवाणी-जोशी युग भी समाप्ति की तरफ बढ़ चुका है. राजनीति में कोई भी स्थायी शत्रु या मित्र नहीं होता है आज आडवाणी खेमे के लिए पार्टी में अपने अस्तित्व को बचाये रखने के लिए खुद को साबित करना पड़ रहा है और किसी भी लोकतंत्र में इस तरह की घटनाएँ पार्टियों को अंदर से मज़बूती नहीं प्रदान किया करती हैं.  
मेरी हर धड़कन भारत के लिए है...

No comments:

Post a Comment